प्रेरणा स्रोत

बहुत दिनों के बाद यह चिट्ठा पोस्ट कर रहा हूँ क्योंकि घर पर कम्प्यूटर नहीं है फिर भी ऐसा शौक पाला। ब्लॉग पढ़ने और लिखने के लिए मुझे ऑफ़िस और घर से समय निकाल कर बाज़ार में किसी सायबर कैफ़े पर जाना होता है। ऐसे ही एक दिन गूगल पर पता नहीं क्या सर्च करते समय एक लिंक क्लिक करने पर अतुलजी अरोरा का ब्लॉग लाइफ़ इन ए एचओवी लेन खुल गया। बहुत ही अच्छा संस्मरण लिखा है। इसके बाद तो पिछले तीन माह से हिन्दिनी, ई-स्वामी, छींटे और बौछारें और फुरसतिया नियमित रूप से देख रहा हूँ। रवि भैया रतलामी से विशेष प्रभावित हुआ। वे समय निकाल कर नियमित रूप से पोस्टिंग करते हैं साथ ही देश की सामाजिक-राजनैतिक गतिविधियों पर उनकी चुटकियाँ बहुत चुटीली होती हैं। इसके अलावा उनके द्वारा समय समय पर जो तकनीकी जानकारी उपलब्ध की जाती है वह उत्तम, लाभदायक और मुझ जैसे नए ब्लॉगर के लिए बहुत ही मददगार होती है। इसके अलावा इधर उधर की (रमण कौल), मेरा पन्ना (जीतू भाई), रोजनामचा (अतुलजी अरोरा), आओ संस्कृत सीखें, नालायक होने का सुख (शास्त्री नित्यगोपाल कटारे), My Hindi Blog: मेरा हिन्दी चिट्ठा, निठल्ला चिंतन, नुक्ताचीनी, दिल्ली ब्लॉग के अलावा और भी अनेक ब्लॉग एक से दूसरे की लिंक के द्वारा मिलते गए और ब्लॉगर जगत के बारे में मालूम हुआ साथ ही यह भी जाना कि कुछ लोग ब्लॉगिंग के साथ-साथ अपने कार्यक्षेत्र के भी दिग्गज हैं। आप लोगों के ब्लॉग्स से ही विभिन्न ब्लॉग सेवा प्रदाताओं के बारे में जानकारी मिली। सर्वज्ञ और नारद से भी परिचय आप लोगों के द्वारा ही हुआ। मैंने भी कुछ प्रयासों के बाद अपना ब्लॉग बना ही लिया। ब्लॉग बनाने के बाद सबसे पहले मैंने अतुलजी अरोरा से संपर्क किया था। उनसे यह पूछा था कि अन्य ब्लॉगर बंधु मेरे ब्लॉग 'मालव संदेश' के बारे में कैसे जानेंगे। इस बात पर अतुलजी ने मेरी मदद के लिए मुझे मेल भेजी जिसमें बताया गया था कि मैं 'मालव संदेश' का पता नारद को दे दूँ। मैंने ऐसा ही किया और मेरे लिए यह आश्चर्य की बात थी कि मात्र दो दिनों अंदर 'मालव संदेश' पर पाँच टिप्पणियाँ थीं। टिप्पणी देने वालों में अनूपजी शुक्ला 'फुरसतिया' वाले, आशीषजी खाली पीली वाले, जीतू भाई 'मेरा पन्ना' वाले, नितिनजी व्यास पहला पन्ना वाले और कोई अनुनादजी सिंह भी हैं। जीतू भाई ने तो बहुत हौसला दिलाया और लगातार लिखने की उम्मीद भी रखी। अब जीतू भाई मैं आपकी उम्मीदों पर खरा उतरने की पूरी कोशिश करूँगा। आप लोगों की टिप्पणियों से जो खुशी मुझे हुई शायद सभी ब्लॉगर्स को होती होगी। इतना तो है कि कोई हमारी लिखी गई बातों को पढ़ता है।

अब बात कुछ मेरे अंचल की। संदर्भ मैं केवल मालवा का दे रहा हूँ परंतु बात पूरे देश पर लागू होती है। जब मैं अपने बचपन को याद करता हूँ तो धार शहर की गलियाँ या आ जाती हैं। मुझे याद है आज से लगभग बीस वर्ष पहले वर्षा के मौसम में कई बार आठ-आठ दिनों की झड़ी लग जाती थी। हम बच्चों को भी तीन-चार दिन की छुट्टियाँ मिल जाया करती थीं। यह स्थिति आठ-दस साल पहले तक भी कभी-कभी बन जाती थी। तब धार ही नहीं पूरे मालवा क्षेत्र में कुओं-बावड़ियों में इतना जलस्तर होता था कि बिना किसी रस्सी के ऊपर से ही बाल्टी डाल कर पानी निकाला जा सकता था। गर्मी के दिनों में भी कुएँ साथ नहीं छोड़ते थे। गर्मियों के मौसम में भी बहुत अधिक गर्मी नहीं होती थी। ‍फिर आया विकास का दौर और गहरे नलकूप खोदे जाने लगे। धीरे-धीरे धरती को छलनी बना दिया गया। किसी समय 25 फ़ीट पर पानी मिल जाता था आज 300 से 500 फ़ीट की खुदाई करना पड़ती है फिर भी पानी निकलने की संभावना कम ही होती है। कभी मालवा के बारे में यह कहावत प्रचलित थी 'मालव धरती गहन गंमीर पग पग रोटी डग डग नीर'। परंतु आज जनवरी से ही पानी के लिए भागदौड़ शुरु हो जाती है। कभी हरा-भरा रहने वाला मालवा आज रेगिस्तान बनने की कगार पर है। इन्दौर से उज्जैन, धार या देवास जाते समय दूर तक केवल खेत ही खेत नज़र आते हैं। पेड़ों का कोई नामोनिशान नहीं मिलता। कुछ इक्के-दुक्के बबूल के कँटीले पेड़ मिल जाते हैं। कुछ ऐसा ही पूरे भारत में हो रहा है। वनों के विनाश से वन्य जीवन और जैव ‍विविधता को तो खतरा है ही साथ ही मानसून भी धोखा दे जाता है। वर्षा सामान्य से कम होने लग‍ी है तो कहीं पर बाढ़ की समस्या जोर पकड़ने लगी है। पेड़ों के न होने से पृथ्वी की ऊपरी उपजाऊ परत हवा में उड़ जाती है और वर्षा के पानी के साथ बह जाती है। पृथ्वी के तेजी से कम होते जल स्तर को रोकने और स्तर बढ़ाने के लिए भूजल संवर्धन आज अति आवश्यक है। यह ठीक वैसा ही है जैसे कोई बैंक खाता। बैंक खाते से पैसा निकालते रहने से वह समाप्त हो जाता है तो उस खाते में फिर से पैसा जमा करना होता है। ठीक इसी प्रकार वर्षा जल को भी प्रति वर्ष समय पर पृथ्वी में उतारा जाए तो भारत में पीने के पानी की समस्या को दूर किया जा सकता है। इसके विभिन्न तरीके हैं जो लगभग प्रत्येक शहर में किस संस्था के पास उपलब्ध होंगे। बात केवल जागरुकता की है। क्या ऐसा नहीं हो सकता कि सरकार का मुँह देखने के बजाय आम आदमी बोरिंग को रिचार्ज करवाए, रूफ हार्वेस्टिंग अर्थात् छत का पानी जमीन में उतारे, गाँवों में स्थानीय नदी-नालों पर स्टॉपडेम बनवाए? इसके अलावा पेड़ों को कटने से बचाना और नए पेड़ भी लगाए जाना भी आवश्यक है। यदि भारत के 25 प्रतिशत लोग भी ऐसा ईमानदारी से कर लें तो संभवत: पानी की समस्या से बहुत-कुछ निज़ात पाई जा सकती है।   

Advertisements

प्रवेश

मालव संदेश आप सभी ब्लॉगर बंधुओं से प्रेरणा लेकर शुरु किया जा रहा है। अपने विचारों की अभिव्यक्ति के लिए ब्लॉग एक श्रेष्ठ माध्यम है। अपनी बात के कहीं न कहीं देखे-पढ़े जाने के लिए ब्लॉग एक अच्छा मंच है। मैंने कई ऐसे ब्लॉग्स देखे हैं जिनमें बहुत ही अच्छी व्यंग्य रचनाएँ, संस्मरण, समसामयिक मुद्दों पर विचार-बहस, कहानियाँ, कविताएँ, गज़लें आदि प्रस्तुत की गईं हैं। मालव संदेश भी एक ऐसा ही प्रयास है। इसमें साहित्य की वि‍भिन्न विधाओं में स्तरीय प्रस्तुति की कोशिश की जाएगी। अन्य ब्लॉगर बंधु समय-समय पर तकनीकी और भाषा संबंधी त्रुटियों का निवारण करते रहेंगे ऐसी आशा है।