घुघूती बासूतीजी के प्रश्नों के उत्तर

आज वर्ष प्रतिपदा है, सभी को नववर्ष की शुभकामनाएँ।
पिछले कई दिनों से चिट्ठा जगत में टैगिंग का कार्यक्रम चल रहा था और हम तो इस मामले में निश्चिंत थे कि हमें कोई टैग करने वाला नहीं है। हमें लग रहा था कि यह पहुँचे हुए चिट्ठाकारों के लिए ही बेहतर है कि वे उनकी चिट्ठाकारी के अनुभव लोगों के साथ बाँटें और स्वयं के बारे में बताएँ। अपने पास चंद पोस्ट्स के अलावा कोई अनुभव नहीं हैं जो लोगों के समक्ष प्रस्तुत किया जाए। हम इस खेल को चुपचाप देखते रहे। धीरे धीरे सभी के उत्तर सामने आते जा रहे थे। नींव के पत्थरों को जानने समझने के अवसर मिल रहे थे। इस प्रश्नोत्तरी के चलते जब घुघूती बासूतीजी के पास प्रश्न पहुँचे तो उन्होंने पाँच में से एक हमें भी टैग कर लिया। घुघूती बासूतीजी अध्यापिका हैं इसलिए कम नंबर आने पर सजा भी मिल सकती है, जैसे फलाँ पोस्ट या टिप्पणी को दस बार लिखना। खैर सजा और पास-फेल का भय त्याग कर हम प्रश्नों के उत्तर तो दिए देते हैं। उत्तर देने में बहुत देर हो गई है अब तक टैगिंग का सारा ज्वार उतर गया है।
 प्रश्न क्र. 1  : एक अच्छी पुस्तक और एक अच्छे टीवी कार्यक्रम में से आप क्या चुनेंगे?
 उत्तर :       यदि पुस्तक और टीवी कार्यक्रम के बारे में पूछा जाता तो निश्चित रूप से पुस्तक को ही प्राथमिकता देता परंतु पुस्तक और टीवी कार्यक्रम दोनों के ही आगे अच्छा लिखा है इसलिए यदि टीवी कार्यक्रम अच्छा है तो मैं टीवी कार्यक्रम पहले देखना पसंद करूँगा क्योंकि हर टीवी कार्यक्रम दोबारा प्रसारित नहीं होते। पुस्तक अपने ही पास है इसलिए बाद में पढ़ी जा सकती है।
 प्रश्न क्र. 2  : यदि एक सप्ताह तक आपको कंप्यूटर से दूर रहना पड़े तो आपको कैसा लगेगा?
 उत्तर :      यहाँ कंप्यूटर का तात्पर्य शायद इंटरनेट से होना चाहिए। वाकई बहुत बुरा लगेगा। नेट से दूर रह कर ऐसा लगता है जैसे दुनिया कट गए हों। जब भी समय मिलता है नेट पर सीधे नारद या परिचर्चा पर पहुँचता हूँ। क्योंकि चिट्ठा जगत की हलचल जाने बिना मन को चैन नहीं।
 प्रश्न क्र. 3 : यदि आपकी सलाह से भगवान काम करने लगें तो आप उसे पहली सलाह क्या और क्यों देंगे?
उत्तर :   कई ऐसी राष्ट्रीय-अंतर्राष्टरीय समस्याएँ हैं जिनके लिए सलाह दी जा सकती है जैसे आतंकवाद, अशिक्षा, गरीबी, धर्मांधता, नस्लवाद बेरोजगारी तथा और भी कई, परंतु एक ही सलाह देना है इसलिए मैं सलाह दूँगा कि सभी लोग पृथ्वी के पर्यावरण की सुरक्षा को तत्पर हो जाएँ। यदि ये धरती ही नहीं रही तो क्या धर्म, क्या देश, क्या नस्ल और क्या संप्रदाय। सब बेमानी है। मनुष्य द्वारा प्राकृतिक संसाधनों के अत्यधिक दोहन से पारिस्थितिकीय संतुलन बिगड़ गया है। अनेक प्राणी और वनस्पतियाँ विलुप्त हो गई हैं या विलुप्ति की कगार पर हैं। हवा में इतना जहर है कि सांस लेना मुश्किल है। खेतों में इतना जहर डाला कि पैदा होने वाले अनाज में उसका असर है। इन्हीं अनाजों, फल, सब्जियों के सेवन से मनुष्य की धमनियों में रक्त के साथ साथ कीटनाशक भी दौड़ता है। गंगा हालत ऐसी कर दी है कि उसका जल पीना बीमारियों को आमंत्रण देना है। विकास के नाम पर या निजी स्वार्थ के लिए पेड़ों पर बेरहमी से कुल्हाड़ी चला दी जाती है। चिपको आंदोलन वाले सुंदरलाल बहुगुणा अब अप्रासंगिक हो गए हैं। वन क्षेत्र नष्ट होने से मौसम चक्र गड़बड़ा गया है। कभी अल्प वृष्टि तो कभी अति वृष्टि। धरती गरम हो रही है और ध्रुवों की बर्फ पिघल रही है। बहुत जल्दी तटीय इलाके जलमग्न हो जाएँगे। गंगा के डेल्टा पर स्थित सुंदरवन का क्षेत्रफल कम होता जा रहा है। सोचिए जरा! हम अपनी आने वाली पीढ़ी के लिए क्या छोड़ कर जाएँगे। ऐसी धरती जहाँ पीने का पानी भी पर्याप्त न मिले तो क्या नई पीढ़ी हमें नहीं कोसेगी। इसलिए मैं भगवान को सलाह दूँगा कि सभी का मस्तिष्क ऐसा कर दे कि वह प्रकृति को नष्ट न करें। यदि पृथ्वी बची रही तो मानव इतना परिपक्व तो हो ही गया है कि शेष रहे अन्य मसले जैसे भाषा, प्रांतीयता, क्षेत्रवाद, धार्मिक कट्टरता, भ्रष्टाचार आदि मिल कर हल कर सकें।
 प्रश्न क्र. 4 यदि आपको किसी पत्रिका संपादक बना दिया जाए तो आप किन चिट्ठाकारों की रचनाएँ अपनी पत्रिका में प्रकाशित करेंगे?
 उत्तर :     इसका उत्तर देने पर निश्चित रूप से पिटाई होगी यदि वे चिट्ठाकार मुझ तक पहुँच जाएँ जिनके नाम मैं यहाँ न लिखूँ। इस प्रश्न का उत्तर देना मेरे लिए बहुत क‍‍ठिन है क्योंकि चिट्ठा जगत में विभिन्न विषयों के ज्ञाता हैं जो अपने विषय के अलावा अन्य विषयों पर भी बहुत अच्छा लिखते हैं। मैं इस लायक नहीं हूँ इन अग्रजों में से किसी का चयन करूँ।
 प्रश्न क्र. 5 यदि आपको जीवन का कोई एक दिन फिर से जीने को मिले तो वह कौन सा दिन होगा?
 उत्तर  :    जीवन की अच्छी बुरी कई घटनाएँ, कई दिन ऐसे हैं जिन्हें मैं फिर से जीना चाहूँगा। बहुत से सुखद क्षण हैं जिनके लिए सोचा जा सकता है कि वे लौट आएँ। सोने से मन वाला निर्मल निश्चिंत बचपन भी याद आता है, जब बच्चे की सारी फिक्र माता पिता करते हैं। या फिर कॉलेज के सुनहरे सपनीले दिन, ऐसा लगता था जैसे पंछी बन कर आकाश में उड़े चले जा रहे हैं, परंतु समय ही पंछी की तरह उड़ जाता है, ये कुछ साल तो क्षणिक स्वप्न से बीत गए।

नहीं ये सब नहीं, मैं 1998 की देवप्रबोधिनी एकादशी या देवउठनी एकादशी (हिन्दू पंचांग के अनुसार दीपावली के बाद ग्यारहवीं तिथि) का दिन किसी भी कीमत पर फिर से जीना चाहूँगा। उस दिन सुबह लगभग 5 बजे माँ ने आवाज़ देकर बुलाया, उस समय भाई दूज के लिए मेरी बड़‍ी बहन भी आई हूई थीं, हम दोनों भाई बहन नींद में चौंक कर माँ के पास पहुँचें तो देखा माँ उठ कर बैठी हुई हैं, उन्होंने बताया कि उनकी जबान अंदर की ओर खिंचती महसूस हो रही है। हमें उनकी बात बिलकुल साफ सुनाई दे रही थी इसलिए हमने माँ को समझाया कि ऐसा कुछ नहीं है, क्योंकि कुछ दिनों पहले उनके दाँतों में कुछ परेशानी हुई थी भोजन निगलने में भी समस्या हो गई थीश डॉक्टर ने बायोप्सी करने को कहा तो माँ ने लक्षणों के आधार पर सोच लिया था कि उन्हें कहीं गले का कैंसर न हो जाए और ऐसा कुछ हुआ नहीं था। अत: इस बार हमने सोचा कि कुछ नहीं होगा। उन्होंने हमारी बात मान भी ली। इस बार उनका इशारा था कि उन्हें पक्षाघात हो गया है या होने वाला है, यह सोच कर ही हम भाई-बहन भयभीत हो गए थे। इसके बाद माँ ने स्नान किया पूजन किया अपना फलाहार बनाया, ग्रहण किया। माँ को काम करते देख कर हम सोच रहे थे कि वे ठीक हैं। चूँकि उन्हें उच्च रक्तचाप और मधुमेह की शिकायत थी ‍इसलिए भी उन्हें कभी कभी चक्कर आ जाया करते थे इसलिए इस बार भी ऐसा ही मान लिया गया। दिन ढलने पर माँ को कमजोरी लगने लगी और शाम के समय मैं डॉक्टर को लेकर आया। डॉक्टर ने जाँच करके तुरंत भर्ती करने के लिए कह दिया। अब मेरे और दीदी के मन में घबराहट हुई। हम लोग माँ को लेकर हॉस्पिटल पहुँचे, वहाँ जाकर डॉक्टर ने बताया कि यह पैरेलिसिस का अटैक है, यदि इन्हें पहले चिकित्सा मिल जाती तो पूर्ण स्वस्थ हो सकतीं थीं अब कुछ कहा नहीं जा सकता। यह सुन कर मुझे और दीदी को काटो तो ख़ून नहीं। हमने स्वयं उन्हें इस ओर धकेला था। रात तक माँ कुछ भी बोल पाने में अक्षम हो गईं थीं। उन्हें 15 दिन तक हॉस्पिटल में रखा गया। बोली बंद हो जाने के कारण वे उनकी आवश्यकताएँ बताने में असमर्थ हो गईं थीं और हम भी उनके इशारे बड़ी कठिनाई से समझ पाते थे।

तीसरे दिन ही रात को 12 बजे के लगभग माँ ने अपने मुँह की ओर इशारा किया और कुछ बोलने का प्रयास किया। हमने यह अंदाज लगाया कि वे बता रही हैं कि वे बोल नहीं पा रही हैं और इससे उन्हें बैचेनी है। मैंने और दीदी ने ‍उन्हें दिलासा दिया कि जल्द ही वे बोल पाएँगी। इस पर उन्होंने मुँह की ओर फिर इशारा किया, बार बारा इशारा किया, हम बार बार उन्हें समझाते रहे। अब तो उन्होंने रोना शुरु कर दिया। हमने फिर समझाया कि उनके रोने से आस पास के कमरे के मरीजों को परेशानी होगी, उन्हें क़ाग़ज़ पेन दिया कि वे लिख कर समझा दें, पर लिखें कैसे दायाँ हाथ भी तो लकवे का शिकार था। खैर वे रो रोकर सो गईं। सुबह छ: बजे उनकी नींद खुली उस समय मेरे हाथ में पानी का गिलास था उसे देख कर उसकी इशारा किया। हमने उन्हें पानी दिया और अंदाजा लगाया कि रात को शायद माँ ने पानी ही माँगा होगा। फिर अपने आप को कोसा कि क्यों पानी का नहीं पूछा। माँ की पूरी तरह नहीं लौटी परंतु वे 20 से 30 दिन में तीन-चार साल के बच्चे की तरह तुतला कर बोलने लगीं। हमारे लिए यही बहुत था। लगभग दो माह में वे किसी के सहारे घर में चलने लगीं थी परंतु स्वयं कुछ भी करने मे सक्षम नहीं थीं और पूरी तरह दूसरों पर निर्भर हो गईं थी। उनका जीवन उनके पलंग और कमरे तक ही सीमित हो गया था। कई दुखी होकर वे तोतली भाषा में कहतीं थीं कि मैंने और दीदी ने उस दिन उन पर ध्यान नहीं दिया तो ये दिन देखना पड़ा। माँ ने इसी स्थिति में ढाई साल गुजारे और सन् 2001 में वर्ष प्रतिपदा (पुड़ी पड़वा) अर्थात हिन्दी नव वर्ष को परलोक सिधार गईं। आज मैं सोचता हूँ कि उस दिन यदि माँ की बात को गंभीरता से लिया होता तो आज शायद वे हमारे बीच होतीं।
इसीलिए मैं वर्ष 1998 की देवउठनी एकादशी का दिन फिर से जीना चाहूँगा ताकि मैं अपने इस घोर अपराध या पाप को सुधार सकूँ।

अपनी निजी बातें कुछ ज्यादा ही लिख गया, परंतु घुघूतीजी ने प्रश्न ही ऐसा कर लिया था कि भावनाएँ उमड़ पड़ीं। आशा है वे मुझे पास कर देंगी।

अब मैं किसे टैग करूँ? मैं किसी को टैग नहीं करना चाहता फिर भी मैं रवि रतलामीजी और सृजन शिल्पीजी से कुछ जानना चाहता हूँ।
रवि भैया आपके चिट्ठे से मैंने जितना आपके बारे में जाना है उससे पता चलता है कि आप मध्य प्रदेश राज्य विद्युत मंडल में इंजीनियर थे। मैं अदाज लगाता हूँ कि संभवत: आप इलेक्ट्रिकल के क्षेत्र से रहे होंगे। यदि किसी प्रकार की व्यावसायिक अड़चनें न हो तो मेरी जिज्ञासा यह है कि आप कंप्यूटर, सॉफ्टवेयर, इंटरनेट की ओर कैसे आए और आपने कैसे जाना कि हिन्दी में भी काम किया जा सकता है? चिट्ठा जगत से आपका परिचय और प्रवेश की कहानी भी जानना चाहता हूँ? 

   
इसके बाद सृजन शिल्पीजी – वे पत्रकारिता से जुड़े व्यक्ति हैं और उनकी पोस्ट उनके विशद् अध्ययन की व्याख्या करतीं हैं। मैं उनसे जानना चाहता हूँ कि आने वाले समय में संचार माध्यमों की तुलना में हिन्दी चिट्ठों का जनता पर क्या प्रभाव होगा? साथ ही यह भी कि उनके द्वारा लिखी जा रही नेताजी से संबंधित सभी पोस्ट्स क्या कभी पुस्तकाकार लेकर उन लोगों तक पहुँचेगी जो आने वाले समय में भी शायद इंटरनेट का प्रयोग न कर पाएँ.

Advertisements