अथ श्वानगाथा: Dogma of Dogs

कुत्ते इस बात पर नाराज हो ही गए कि उनके नाम को मनुष्य जब-तब जहाँ-तहाँ घसीटता रहता है। आखिर कब तक यह सब सहते रहेंगे। कोई तो सीमा होनी चाहिए। अब तो चिट्ठाजगत में भी उनके नाम का दुरुपयोग हो रहा है और यह सब ‘कौवों के राजा’ अर्थात काकेश का किया धरा है। मोहल्ले का नाम ले लेकर हमें कोसा है।

chaun_wolfhoundlab08.jpg

कुत्तों के मुखिया ने एक आपातकालीन बैठक बुलाई। उसने संबोधित किया, ‘हे श्वानवीरो, आज हम फैसला करके रहेंगे। यदि मनुष्य हमें इसी प्रकार बेइज्जत करता रहा तो हमें उस पर मानहानि का मुकदमा करना होगा। फ़िल्मों में हमेशा विलेन को हमारे नाम से ही गालियाँ दी जाती रहीं हैं। ये काम सबसे ज्यादा धरमिंदर ने किया है। हमारे दादा के जमाने में सत्तर के दशक में पूरे देश में इनका डायलॉग गूँजा था – बसंती इन कुत्तों के सामने मत नाचना – उसने क्या सोचा था कि देश के सारे कुत्ते बसंती का नाच देखने को ही उधार बैठे थे और यदि उसका नाच देख भी लेते तो क्या पहाड़ टूट जाता।’
एक युवा कुत्ते ने समझाया, ‘दद्दा, वो हमें नहीं गब्बर और उसके साथियों को कुत्ता कह रहा था।’
मुखिया ने तनिक गुर्राया और बोला, ‘हाँ यही तो तकलीफ है कि हमारी तुलना गब्बर और उसके गिरोह से की गई। बेशक हमारे गिरोह होते हैं। परंतु हम लूटपाट नहीं करते। अरे हम तो अपने पेट से अधिक कभी नहीं चाहते। फिर भी ये इंसान हमेशा हमारे नाम लेकर एक दूसरे को गरियाता है।’
‘सबसे अधिक नाराज़ तो मैं इसी धरमिंदर से हूँ, हर दूसरी फ़िल्म में बोलता है – कुत्ते, कमीने मैं तेरा ख़ून पी जाऊँगा – जैसे हमारा ख़ून कोई कोल्ड्रिंक है। अरे ये इंसान हमारा ख़ून पी ले तो उसके ख़ून में भी वफादारी आ जाए, पिए तो सही एक बार।

brodie_puggle02.jpg

कुत्तों का सचिव गंभीर होकर बोला, ‘ये तो बिलकुल ग़लत है कि उसने कुत्ते के साथ कमीना भी कहा। कोई भी कुत्ता कमीना नहीं होता। एक टुकड़ा भी रोटी का दिया तो जिन्दगी भर साथ दिया है हमने। और तो और कई बार फ़िल्मों का विलेन कोई नेता होता है, तब भी वही डायलॉग – कुत्ते, कमीने….. – ये तो हद हो गई, इन नेताओं से तो गब्बर ही अच्छा था उसके उसूल तो थे।

कुछ कुत्ते नए जमाने के थे, तकनीक वगैरह में भी दखल रखते थे, उनमें से एक बोला, ‘अभी पिछले दिनों हिन्दी चिट्ठाजगत के धुरंधर व्यंग्यकार स्वामी समीरानंद ने मूषकों की व्यथा कही थी। चूँकि वे हमेशा व्यंगात्मक लेखन करते हैं, इसलिए मैं समझा वे कम्प्यूटर के माउस को मूषक कह कर मौज ले रहे होंगे। मैं तो माउस के बारे में कुछ नया सोच कर उनके चिट्ठे पर गया था, वहाँ देखा तो वे भगवान गजानन के वाहन मूषक की बात कर रहे थे। उनके चिट्ठे से एक बात मालूम हो गई कि लोगों के घर के सामने पड़े मरे चूहों को हमारे जिन साथियों ने खाया वे मर क्यों गए। दरअसल वे मनुष्य द्वारा रखी गई चूहामार दवा से मरे चूहे थे पर हमारे लिए तो यह फ़ूड पॉइज़निंग का केस हो गया।’

शेम-शेम शेम-शेम के स्वर सुनाई देने लगे।

कुछ दुर्लभ कुत्ते, जिन्होंने नेताओं को काट लिया था, कहने लगे, ‘अच्छा मौका है हम चूहों से गठजोड़ कर लेते हैं। वे भी इंसानों से परेशान हैं, हमारे पक्ष में जरूर आ जाएँगे। बदले में हमें उनके लिए बिल्ली पार्टी के विरुद्ध कैम्पेन कर देंगे। वैसे भी बिल्ली पार्टी से हमारे मतभेद हमेशा रहे हैं।’

इतना सुनते ही मुखिया भड़क उठा, ‘तुम चुप ही रहो तो अच्छा है। नेताओं को काटने से उनके गुण तुममें आ गए हैं, उन्हीं की भाषा बोलने लगे, अपना कुत्तत्व ही भूल गए, लानत है तुम पर।’
एक नन्हें छौने से श्वान शिशु ने उसकी माँ से पूछा, ‘माँ, ये कुत्तत्व क्या होता है?’ 
‘बेटा, कुत्तत्व ही हमारी मूल प्रवृत्ति है, ये हमें जन्म से मिलती है। एक मनुष्य अपना मनुष्यत्व छोड़ सकता है परंतु हम कुत्तत्व कभी नहीं छोड़ते‘, माँ ने गर्व से कहा।      
तभी एक किशोर कुतिया बोली, ‘दादू-दादू, ये इंसान हमेशा हमारी पूँछ को लेकर हमारा मजाक उड़ाता रहता है कि कुत्ते की पूँछ टेढ़ी की टेढ़ी।’
बूढ़े मुखिया ने समझाया, ‘नहीं नहीं, तुम मनुष्यों की कहावतों पर ध्यान मत दो। ये मनुष्य जानवरों पर कहावत भी बनाता है तो उसकी अपनी समझ से, जो कि हम जानवरों से बहुत कम है। हमारी पूँछ हमेशा टेढ़ी रहती है और वह हमारे चरित्र की दृढ़ता का प्रतीक है। ऐसी चारित्रिक दृढ़ता मनुष्य में कहाँ, उसकी पूँछ होती तो वह कोशिश कर भी सकता था। बेटी तुम्हें अपनी टेढ़ी पूँछ पर गर्व होना चाहिए। तुम देख लो किसी भी कुत्ते की पूँछ कभी सीधी नहीं होती। कुत्ता कितना ही कुपोषित क्यों न हो जाए उसकी दुम का अंतिम सिरा मुड़ा हुआ ही मिलेगा, अर्थात् भूख भी हमें अपने चरित्र से नहीं डिगा सकती, और ये मनुष्य है कि सात पीढ़ीयों के लिए भंडार भरा है फिर भी नीयत डोलती रही है।

किशोरी ने फिर अपनी बात रखी, ‘दादू, ‘क’ से कुत्ता होता है, परंतु वो जितेन्द्र सुता (मेरा पन्ना वाले नहीं, फ़िल्म स्टार जीतेंदर की पुत्री) है ना, वो टीवी पर ‘क’ से शुरु होने वाले बड़े ही भीषण सीरियल बनाती रहती है। मुझे तो देख कर डर लगता है। पता नहीं ये मनुष्य रोज इन सीरियल्स को कैसे देख लेता है। देखता ही बल्कि वैसी हरकतें भी करने लगा है। इसका बिजनेस बिगाड़ा, उसका घर उजाड़ा, हमेशा विध्वंस की ही बात होती रहती है, जैसे इनके जीवन में, धरती में कुछ अच्छा है ही नहीं।

दादू ने समझाया, ‘बेटी, यदि ये सीरियल नहीं होते तो भी ये मनुष्य बिगाड़ना, उजाड़ना, विध्वंस जैसे काम करता ही करता। आतंकवादियों ने ‘क’ वाले सीरियल थोड़े ही देखे थे।’

callista_pyrenees02.jpg  

एक छोटे सहमे कुत्ते ने भी शिकायत की, ‘दादू, हमारी प्रजातियों में से एक प्रजाति की पूँछ मनुष्य काट देता है। कहता है कि अधिक लंबी है जो हमारी ट्रेनिंग में भागने दौड़ने में उलझती है। मैं यह नहीं समझ पा रहा हूँ कि भला पूँछ भागने में बाधा कैसे हो सकती है वह तो दौड़ते समय, कूदते समय, मुड़ते समय संतुलन बनाने में सहायक होती है।’

इस बात का किसी के पास कोई जवाब नहीं था।

उस छोटे कुत्ते ने अपनी बात जारी रखी, ‘हमारी कई प्रजातियाँ बड़े बालों वाली है। ये बाल प्रकृति के अनुकूलन में ऐसे हुए हैं, पर मनुष्य उन्हें अपने हिसाब से काट-छाँट देता है और सोचता है कि हमें सजा रहा है। हमें ठंड लगे या गर्मी इससे उसे कोई मतलब नहीं। कई बार हमारी दौड़ करवाता है, नकली खरगोश के पीछे हमें दौड़ाता है। हमें तो बाद में पता चलता है कि खरगोश नकली था। हम भोले जीव हर बार खरगोश को असली समझ कर दौड़ जाते हैं।’  

यह सुनकर एक हड़का कुत्ता (हड़का कुत्ता वो कुत्ता होता है जिसमें मनुष्य के कुछ गुण आ जाते हैं और वो अपने वालों को भी काट लेता है) बीच में बोल उठा, ‘अरे नन्नू बोल तो सई, किसके पेट में इंजेक्शन लगवाना है। बस मेरे काटने की ही देर है।’

मुखिया ने उसे चुप किया और अचानक कुछ याद करते हुए बोले, ‘असल बात तो हम भूल ही गए, हम यहाँ पर कागाधिराज काकेश के कारण इकट्ठा हुए हैं। उन्होंने हम पर बहुत ही ग़लत इल्जाम लगाए हैं। उन्होंने लिखा है कि एक मोहल्ले में आजकल कुछ कुत्तों ने डेरा जमा लिया है और हर आने जाने वाले पर पहले गुर्राते हैं फिर काट लेते हैं। ये तो बिलकुल ही ग़लत बात है। हम कुत्ते शुरु से ही एक नहीं हर मोहल्ले में रहते आए हैं। हम न हों तो मोहल्ला वीरान हो जाए। हर कुत्ते का अपना समूह होता है और कुत्तों के हर समूह का एक मोहल्ला होता है। हमारी अपनी सीमाएँ होती हैं। उसमें हम दखलंदाजी पसंद नहीं करते। जैसे ही किसी कुत्ते ने दूसरे मोहल्ले में प्रवेश किया तो उस मोहल्ले का पूरा गुट उसे मोहल्ले से बाहर खदेड़ का आता है और दूसरे मोहल्ले की सीमा शुरु होते ही हम आगे नहीं जाते, वहाँ से वापस लौट आते हैं। गौर करें कि हमें न तो अपनी सीमा मे किसी का, यहाँ तक कि कुत्तों तक का भी अतिक्रमण पसंद है ना ही हम किसी दूसरे की सीमा में अतिक्रमण करते हैं। पर ये इंसान हमेशा दूसरे के फटे मे टांग अड़ाता रहता है। फिर गुर्राने और काटने की बात अर्द्धसत्य है। देखिए, दिन में तो हम काटते ही नहीं। हम प्रकृति के साथ चलने वाले जीव हैं। अरे भई रात होती है सोने के लिए, उस समय कोई मनुष्य गली में निकल आए तो हम उसे दौड़ा लेते हैं कि भाई घर जाकर सोजा। अब इसमें क्या ग़लत है। हाँ कुछ नालायक कुत्ते दिन में भी भागदौड़ का खेल खेलते रहते हैं, यह ज़रूर ग़लत है। और फिर हम अपने मोहल्ले की सीमा तक ही दौड़ाते हैं और भौंक भौंक कर अगले मोहल्ले को आगाह कर देते हैं कि भाई लोगों, भेज रहे हैं एक को, सम्भाल लेना। यदि व्यक्ति बाइक पर हो तो उसे धूम ईश्टाइल की भी प्रेक्टिस करा देते हैं।’

‘दूसरी बात हम कुत्तों का कोई हिडन एजेंडा नहीं होता। यह नितांत मानवीय गुण है। यह हममें नहीं पाया जाता।’
 
‘रही बात ‘सारा’ बिटिया की तो उसे कुत्तों ने नहीं पाखंडी इंसानों ने ही डराया है। अरे हम तो उसे भौंक भौंक कर चेताते रहते हैं कि सारा अभी तुम हमारी तरह निश्छल हो, इन बड़े लोगों के पाखंड में मत फँसना। बड़ी होकर किसी भी बात को सही ग़लत अपनी समझ से आँकना। हमेशा खुली हवा में साँस लेना। ये ढोंगी तुम्हें कुएँ का मेढक बनाने में कोई कसर बाकी नहीं रखेंगे। वो तो हमारी बात समझ जाती है पर बड़े नहीं समझते क्योंकि उनके दिमाग पर ज्ञान के अनेक आवरण पड़े रहते हैं।’
 
‘और भला ये मोहल्ले के कुत्तों को अवॉईड करने की क्या बात कही। समर्थन करना, बायकॉट करना, अवॉइड करना, ये सब इंसानो की फितरत है। अरे हम तो रात रात भर जाग कर मोहल्ले के हर घर की रखवाली करते हैं। हम तो किसी भी घर को अवॉइड नही करते, वो चाहे हिन्दु, मुसलमान, दलित, सवर्ण किसी का भी हो।
 
‘वर्चुअल डाकियों पर हमारे बुद्धिजीवी कुत्ते शोध कर रहे हैं इसलिए अभी नो कमेंट्स। परंतु जब से रीयल डाकियों ने खाकी ड्रेस पहनना छोड़ दिया है हम उन्हें नहीं दौड़ाते हैं। खाकी पेंट शर्ट से बड़ा भ्रम रहता था। इसलिए हम सभी खाकीधारी को दौड़ा लेते थे। अब तो डाकिये नीली वर्दी पहनते हैं। इसलिए वे बेखटके डाक बाँट सकते हैं।’

 puppy20070421.jpg

कुछ बुद्धिजीवी कुत्ते इतनी देर से सारी बातें सुन रहे थे। हालाँकि बुजुर्ग कुत्तों ने इन्हें बहुत समझाया था चंद किताबें पढ़ कर खुद को बुद्धिजीवी मत समझो। हर प्राणी अपनी बुद्धि से ही जीता है। ये इंसान ने ही बुद्धिजीवी-श्रमजीवी का भेद बना रखा है। बुद्धिजीवी मतलब मेहनत कौड़ी की नहीं और नाम व दाम जमाने भर का, उधर जो श्रमजीवी परिश्रम कर रहा है उस बेचारे के श्रम के फल का हिस्सा भी बुद्धिजीवी हड़प लेते हैं और श्रम करने वाले को दो जून की रोटी भी नसीब नहीं होती। 

बुद्धिजीवी कुत्ते बोले, ‘कागभुसुंडि काकेश अपने वालों का ही ख्याल रखते हैं। अब देखिए हमारी तो लानत मलामत की और कौवों की तारीफ में पोस्ट लिख डाली। ढूँढ ढूँढ कर कविताएँ भी डाली हैं कौवों के लिए। भगवान कृष्ण के हाथ से कौवे माखन रोटी ले जाते हैं। वाह! क्या किस्मत है कौवों की? यदि दरवाजे पर या मुंडेर पर कौवा बोले तो शुभ होता है, उसकी चोंच सोने से मढ़ा देंगे और यदि हम जरा दरवाजे पर भौंक दें तो हमें डंडा मार कर भगा दिया जाता है। रात को कभी कभी हम अपने दुख व्यक्त करने के लिए हूऽऽऽऽऽ हूऽऽऽऽऽऽ करके थोड़ा रो लें तो उसे अपशकुन माना जाता है। हमने बहुतेरा ढूँढा पर हमें कुत्तों पर कोई कविता नहीं मिली। अलबत्ता हमारी वफादारी पर कुछ आलेख जरूर मिल जाते हैं।’

एक कवि प्रकृ‍‍ति कुत्ता बोला, ‘काश दुष्यंत कुमार हम पर ही कुछ लिख देते, जैसे उन्होंने साँप के लिए लिखा था।

श्वान, तुम सभ्य तो हुए नहीं,
भले ही नगर में आया बसना,
एक बार पूछूँ उत्तर दोगे,
क्यों (मनुष्यों जैसे) सीखा काटना, दुम हिलाना।

कवि कुकुर ने कहा, ‘और इस सभा की रिपोर्टिंग के लिए कोई चिट्ठाकार बुलाया है या नहीं?’

इस पर इंटरनेट का लती कुत्ता बोला, ‘हाँ, बिलकुल लाए हैं, अभी पिछले दिनों चिट्ठाकार भाटियाजी सभी चिट्ठाकारों को आईना दिखा कर चिट्ठा हिट करने के नुस्खे बता रहे थे। इनके 20 वें नंबर के नुस्‍खे में लिखा ‍है कि चिट्ठा ‘म’ से शुरु होना अच्छी बात होती है। इसलिए मैं ‘मालव संदेश’ वाले अतुल शर्मा को ले आया हूँ।’

सारे श्वान कुछ दुखी हो गए। आखिर कवि कुत्ते से रहा न गया, उसने कहा, ‘ये किस चूँ चूँ के मुरब्बे को पकड़ लाए। इसका हिट काउंटर देखा है, दहाई का आँकड़ा भी पार कर ले तो गनीमत है। कम से कम उड़न तश्तरी वाले समीर लाल को लेकर आते तो वो हमारे लिए पोस्ट के अंत में एक कविता तो लिखते-

इंसानो ने काम किए पर,
कुत्तों पर इल्जाम हो गया।

नेट वाले कुत्ते ने समझाया, ‘भाई, एक ये बंदा ही काम से भी फुरसतिया था इसलिए इसे ही ले आए। ये ज्यादा लिखता करता तो है नहीं, बस इधर उधर टिपियाता रहता है और आधी से ज्यादा टिप्पणियाँ तो मॉडरेशन की भेंट चढ़ जातीं हैं।’   

अंत में एक श्वान जो कुछ ज्यादा ही बुद्धिजीवी था, इतना ज्यादा कि शोध वगैरह भी करता रहता था, उसने अपने शोध कार्य से जो निष्कर्ष निकाला था उसे सभी कुक्कुरों के सामने रखा।
उसने बताया, ‘ये जो मनुष्य आज कहता फिरता है – मेरा शानदार बंगला, मेरी शानदार गाड़ी, मेरे शानदार कपड़े, जूते, शानदार ये, शानदार वो। इसके पीछे पुरातात्विक कारण हैं।’
‘हम कुत्तों को पालना प्राचीन काल से ही बहुत सम्मान का कार्य माना जाता था। यहाँ तक कि धर्मराज युधिष्ठिर के स्वर्गारोहण के समय उनका कुत्ता ही धर्म के रूप में उनके साथ गया था। उनके भाईयों और पत्नी ने रास्ते में ही साथ छोड़ दिया था परंतु कुत्ते ने अंत तक साथ निभाया था। धर्मराज ने स्वर्ग के यान में चढ़ने के लिए शर्त रखी थी कि ये कुत्ता भी उनके साथ स्वर्ग में जाएगा अन्यथा वे भी स्वर्ग में नहीं जाएँगे।’
‘प्राचीन काल में जो लोग कुत्ता पालते थे उन्हें सम्मान से ‘श्वानदार’ कहा जाता था। यही ‘श्वानदार’ शब्द बिगड़ कर ‘शानदार’ हो गया और आज हर श्रेष्ठ वस्तु के लिए मनुष्य कहता है ‘शानदार’।’

सभी श्वान साधु-साधु कर उठे। उनके पंचम स्वर में साधु-साधु सुनकर लोगों की नींद खुल गई और उन्होंने कुत्तों पर पत्थर फेंकना शुरु कर दिए। पत्थरों की बरसात होते ही सारी श्वान बिरादरी तितर-बितर हो गई और भागते भागते अगली मीटिंग का समय और ऐजेंडा तय करती गई।

puppy20070425.jpg

उद्घोषणा (बतर्ज काकेश भाई): ये आलेख कागाधिराज काकेश महोदय और स्वामी समीरानंद के चिट्ठों पर जाने से मिले संक्रमण के कारण बन गया है। इसलिए तेरा तुझको अर्पण के भाव से ये आलेख इन्हीं को समर्पित है। दिमाग के इस फितूर का किसी भी जीवित या अजीवित व्यक्ति से कोई संबंध नहीं है। यदि ऐसा होता है तो इसे कोई कारण संयोग माना जाना चाहिए। यदि कोई श्वानों के पक्ष या विपक्ष में कोई बात रखना चाहता है तो टिप्पणी के माध्यम से कह सकता है। टिप्पणियाँ केवल श्वानों पर ही स्वीकार की जाएँगी। अनाम टिप्पणियाँ श्वानों की ओर से स्वीकृत की जाएँगी।  

Advertisements

19 Responses

  1. वाह! बहुत जबरदस्त लेख लिख मारा।
    कुत्तों की तरफ़ से बहुत गम्भीर चिंतन किया है आपने।

    इस रिसर्च मे तो बहुत टाइम लगा होता है ना?

    बहुत अच्छा लेख। साधुवाद स्वीकारिए, लगे रहिए।

  2. जीतू भैया की ओर तारीफ मिली! हम तो तर गए।
    धन्यवाद है जी आपको।

  3. अरे भाई अतुल ..हम तो सोचे थे कि हम हीं लाईन में हैं लेकिन अब तो आप भी आ ही गये लाईन में. ..अब आप को जो संक्रमण हुआ है उसका ईलाज है हमारे पास ..एक दिन क्लीनिक में आना पड़ेगा. और जहां तक समीरानंद जी की बात है.. वो तो हमारे ‘पूजनीय’ हैं इसलिये उनकी बातें हम नहीं कर सकते..

    आपका लेख वाकई बहुत गजब है .. चिट्ठा जगत में विवादों की गरमी के बीच ठंडक पंहुचाता हुआ .. ऎसे मौलिक लेख के लिये साधुवाद …लिखते रहें..

  4. चुहा, कौआ, कुत्ता… माजरा क्या है? 🙂

    मस्त लिखा है, मजा आया.

  5. वाह भई वाह मेरे लिये कम बढा दिया अब मुझे फ़िर से लिस्ट बनानी पडेगी के कौन सा जानवर बचा है
    और किस किस का इन्टरवियू नही छपा ये आपके फ़ोटो वाले साहब उधार मिलेगे क्या मै भेड और भेडिये के आपसी रिशतो पर एक सीरीज लिखने की सोच रहा हू

  6. बहुत खूब मालवा नरेश…छा गये आप!

    ओह सारी भिया, टिप्पणी तो श्वानओं पर लिखनी थी..गलती हो गई.. 🙂

  7. kutte ke bare mai itne sunder bichar pareh. Bahut acha laga.

  8. क्या कहें आप तो लाजवाब हैं..

  9. वाह अतुल जी; स्तरीय व्यंग्य लिखा है. मजा आ गया.

  10. @आशीष
    कूँ कूँ कूँ कूँ……………

    @काकेश
    भैया आप ही के कारण थोड़ा लाइन में आ गए।

    @संजय बेंगाणी
    आपको मस्त लगा, धन्यवाद।

    @अरुण
    हाँ जी, आप फ़ोटो उधार ले सकते हैं और आपकी सीरीज का स्वागत है।

    @नितिन बागला
    हाँ नितिन जी, आज इन श्वानों के कारण ही आप जैसे दिग्गज लोगों के चरण इस चिट्ठे पर पड़े हैं।

    @B K Nautiyal
    धन्यवाद।

    @अभय ‍तिवारी
    आपकी टिप्पणी से ऐसा लगता आपको ‘निर्मल-आनन्द’ आया है।

    @धुरविरोधी
    आपको व्यंग्य पसंद आया, ये मेरे लिए प्रोत्साहन है, धन्यवाद।

  11. अब आप भी !
    आज आपकी पोस्ट पढ ली ।
    काकेश समीर को पहले पढ चुके हैं। हमारा भी संकरमित हुई गये तो आप लोग झेलिएगा।
    संक्रमण की चेतावनी भी नही लिखी कवर पर। हम तो कोर्ट जाएँगे ,हाँ, कहाँ दिया।

  12. साधु-साधु. बहुत समय बाद इतना तगड़ा सधा हुआ लेखन हाथ लगा. क्या बात है!!!! बहुत ही धांसू.

    अगर अंक देने की बात है तो १००/१००. मान गये. ऐसे ही कलम चलती रहे, ढ़ेरों शुभकामनाऐं.

    हर पंच लाईन पर हमारी दाद उठती रही इस आलेख को पढ़कर. 🙂 बहुत बढ़िया.

  13. जबरदस्त व्यंग्य… कुछ कुत्ते सुंघते हुए आएंगे जरूर.. 🙂 रेबिज का टीका पहले से लगा लेवें. हा हाह हा हा हा

  14. बहुत बढ़िया लिखा है ।
    मैं तो विशुद्ध कुत्ता प्रेमी हूँ । मैंने मनुष्य को कुत्ता कहकर कुत्तों का अपमान न करने का पहले भी अनुरोध किया था ।
    घुघूती बासूती

  15. वाह , अद्भुत, आनन्ददायक । अब अलग-अलग क्या तारीफ़ करें, पोस्ट मार्टम हो जायेगा लेकिन मौज-मजे में तमाम पहलू छुये। तमाम को छुआ दिया। बढ़िया है। ऐसे ही लिखना जारी रखें। वो कविता का अंश दुष्यन्त कुमार का नहीं है। शायद अज्ञेयजी का है, मैं पता करके बताउंगा! बेहतरीन प्रस्तुति के लिये बधाई!

  16. मजा आ गया। चित्र तो बहुत सुन्दर हैं। क्या खुद लिये हैं?

  17. @सु्जाता
    कोर्ट नहीं जाइयेगा, आगे से वैधानिक चेतावनी लिख दी जाएगी।

    @समीर लाल
    आपका आशीर्वाद मिला, मेरे अहोभाग्य।

    @Pankaj bengani
    पंकज भाई मैं पूरी तैयारी से हूँ।

    @ghughutibasuti
    आपका स्नेह बना रहे।

    @अनूप शुक्ला
    आपके चरण पड़ने से चिट्ठा धन्य हो गया।
    कविता अज्ञेयजी की हो सकती है। इस समय मैं भी नहीं कह सकता।

    @तरुण
    धन्यवाद आपका। काश ऐसे चित्र मैं ले सकता, ये तो उधारी के हैं।

  18. कल श्वान ने सपने में आकर मुझे आपके ब्लॉग पर टिप्पणी करने को कहा है- कि एक साल और एक महीने बाद आखिरकार कुत्तो ने आपकी यह पोस्ट पढ़ ली है।
    उनके पास अभी ओपरेटिंग सिस्टम कुछ पुराना है सो हिन्दी टाइप कर नहीं पाये.. उन्होने मुझे कहा कि आपको धन्यवाद- साधूवाद कह दूं।
    🙂

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: